Raman ke Goth

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने 13 सितम्बर से ‘रमन के गोठ’ शीर्षक नाम से एक कार्यक्रम की शुरुआत की है. इसका प्रसारण हर महीने के दूसरे रविवार को सवेरे 10.45 से 11 बजे तक आकाशवाणी के माध्यम से किया जाता है. इसके ज़रिये वे राज्य की जनता के साथ अपने विचारों को साझा करते हैं. साथ ही जनता के द्वारा पूछे गए प्रश्नों का जवाब कार्यक्रम के अगले अंक में देते हैं और छत्तीसगढ़ की सामाजिक-सांस्कृतिक और प्रशासनिक गतिविधियों तथा अपनी सरकार की विकास योजनाओं के बारे में वार्तालाप शैली में जनता को जानकारी देते हैं.

रमन के गोठ 08 जनवरी, 2017

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज आकाशवाणी के रायपुर केन्द्र से प्रसारित अपनी मासिक रेडियो वार्ता ’रमन के गोठ’ की 17वीं कड़ी में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा किए गए नोटबंदी के फैसले की तारीफ की. मुख्यमंत्री ने प्रदेश वासियों द्वारा कैशलेस लेनदेन में किए जा रहे उनके सहयोग हेतु उनकी प्रशंसा की.

रमन के गोठ 11 दिसंबर, 2016

आकाशवाणी से ‘रमन के गोठ’ की यह 16वीं कड़ी थी. मुख्यमंत्री ने राज्य सरकार के 13 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में जनता से मिले प्यार, सहयोग, समर्थन और मार्गदर्शन के लिए धन्यवाद ज्ञापित किया. उन्होंने राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी.

रमन के गोठ 13 नवम्बर, 2016

रमन के गोठ की यह 15 वीं कड़ी थी. मुख्यमंत्री ने इस कड़ी में प्रदेश के किसानों को राज्य सरकार द्वारा समर्थन मूल्य के अनुसार 15 नवम्बर से धान खरीदी के लिए की गई तैयारियों की जानकारी दी. उन्होंने राज्य के प्रतिभाशाली बच्चों की प्रशंसा, सौरसुजला योजना आदि के विषय में जानकारी साझा की.

रमन के गोठ 9 अक्टूबर, 2016

आज प्रसारित रमन के गोठ की 14 वीं कड़ी में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने जनता को नवरात्रि दशहरा, दीवाली, अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस आदि की बधाई दी और 'बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ' पर बल दिया. मुख्यमंत्री ने जनता से स्वच्छता को अपने जीवन का अभिन्न अंग बनाने की अपील की.

रमन के गोठ 11 सितंबर, 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने रमन के गोठ के 13 वें प्रसारण में राज्य के मेहनतकश श्रमिकों और ग्रामीणों से अपील की है कि वे मानव तस्करों और फर्जी चिटफंड कंपनियों से सावधान रहें. मुख्यमंत्री ने इस कड़ी में प्रदेश में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर हो रहे कार्य, मेडिकल कॉलेज सरगुजा, बस्तर में बढ़ती स्वास्थ्य सेवाओं सहित कई विषयों पर चर्चा की.

रमन के गोठ 14 अगस्त, 2016

‘रमन के गोठ’ कार्यक्रम की 12वीं कड़ी थी. मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कार्यक्रम के एक वर्ष पूर्ण होने पर प्रदेश की जनता को बधाई दी. उन्होंने अपने इस प्रसारण में छत्तीसगढ़ में स्वतंत्रता आन्दोलन और राज्य की जनता के योगदान पर विस्तार से जम्कारी दी.

रमन के गोठ 10 जुलाई, 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अपनी मासिक रेडियो वार्ता 'रमन के गोठ' की 11 वीं कड़ी में राज्य के किसानों से प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ उठाने की अपील की. उन्होंने किसानों को अच्छी फसल के लिए अपनी शुभकामनाएं दीं. मुख्यमंत्री ने वार्ता के माध्यम से नागरिकों से अवैधानिक चिटफंड कंपनियों से सावधान रहने की अपील की. उन्होंने समाज में अच्छा कार्य कर रहे बच्चों और व्यक्तियों की प्रशंसा की तथा युवा नीति के निर्माण में प्रदेशवासियों से योगदान माँगा.

रमन के गोठ 12 जून, 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आकाशवाणी से प्रसारित ‘रमन के गोठ’ कार्यक्रम की 10वीं कड़ी में नया रायपुर को छत्तीसगढ़ के लगभग 20 हज़ार गांवों की मिट्टी, वहां के पानी और वहां के फूल-पौधों से गुलदस्ते की तरह सजाने की मंशा प्रकट की. उन्होंने रेडियो प्रसारण में प्रदेशवासियों से 21 जून को होने वाले विश्व योग दिवस में सक्रिय भागीदारी का आव्हान किया.

रमन के गोठ 8 मई, 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने दसवीं और बारहवीं बोर्ड की परीक्षाओं में सफलता प्राप्त करने वाले बच्चों को बधाई देकर अपनी मासिक रेडियो वार्ता ‘रमन के गोठ’ की नवमीं कड़ी का शुभारंभ किया. उन्होंने कार्यक्रम में प्रदेश व्यापी लोक सुराज अभियान के तहत किए जा रहे अपने दौरों के विषय में चर्चा की. मुख्यमंत्री ने अभियान के दौरान हुए अनुभवों को लोगों के साथ साझा किया. उन्होंने जनता से मिलने वाली प्रतिक्रिया को महत्वपूर्ण बताते हुए योजना निर्माण में उनकी भूमिका पर अपने विचार व्यक्त किए.

रमन के गोठ 10 अप्रैल, 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अपनी मासिक रेडियो वार्ता ‘रमन के गोठ’ की आठवीं कड़ी में भू-जल संरक्षण के लिए प्रदेशवासियों से राज्य सरकार के साथ हर संभव सहयोग करने का आव्हान किया. मुख्यमंत्री ने जनता को 14 अप्रैल से शुरू हो रहे ग्राम उदय-भारत उदय अभियान, लोक सुराज अभियान, पंचायत दिवस और स्कूलों केसामाजिक अंकेक्षण की शुरूआत के विषय में जानकारी दी. गर्मीं केमौसम को देखते हुए उन्होंने प्रदेशवासियों से अपने स्वास्थ्य केप्रति विशेष सावधानी बरतने की समझाइश दी.

रमन के गोठ 13 मार्च, 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अपनी मासिक रेडियो वार्ता ‘रमन के गोठ’ की सातवीं कड़ी का शुभारंभ छत्तीसगढ़ के लोकप्रिय संत कवि स्वर्गीय श्री पवन दीवान को श्रद्धांजलि अर्पित कर की. उन्होंने 1 अप्रैल से 13 अप्रैल तक प्रदेश व्यापी शाला प्रवेश उत्सव मनाने की घोषणा की. मुख्यमंत्री ने अपना टेलीफोन नम्बर 0771-2331001 देते हुए प्रदेश के बच्चों से परीक्षा संबंधी उनकी समस्याओं को उनसे साझा करने और उनके उचित निराकरण की बात कही. मुख्यमंत्री ने जनता को राज्य सरकार के आगामी वित्तीय वर्ष 2016-17 के बजट केसंबंध में जानकारी दी. उन्होंने लोगों से जल बचाने और अधिक से अधिक पेड़ लगाने की अपील की. उन्होंने कार्यक्रम में प्रदेश में महिला सशक्तिकरण की दिशा में किए जा रहे कार्यों की जानकारी दी.

रमन के गोठ 14 फरवरी 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कार्यक्रम की छठवीं कड़ी में प्रदेश के लाखों बच्चों को वार्षिक परीक्षाओं के लिए अपनी शुभकामनाओं के साथ पूरी मेहनत और लगन के साथ परीक्षा देने की सलाह दी. इसके साथ ही उन्होंने बच्चों से कहा है कि परीक्षा में कम नम्बर मिलने पर हताश होने की ज़रूरत नहीं है, बल्कि जीवन के संघर्ष में खेल भावना के साथ आगे बढ़ने की ज़रूरत है. उन्होंने अपने बचपन की यादों को भी बच्चों से साझा किया. मुख्यमंत्री ने महिलाओं को हिंसा से बचाने कानून और सरकार के साथ समाज से भी सहयोग का आव्हान किया. उन्होंने राजिम कुंभ के लिए जनता को 'पीले चावल' के साथ न्यौता दिया. साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की 21 फरवरी को होने वाली छत्तीसगढ़ यात्रा की भी खुशख़बरी दी और सभी लोगों को राजनांदगांव ज़िले के ग्राम कुर्रूभांठ में प्रधानमंत्री के हाथों Rurban योजना के शुभारंभ समारोह में शामिल होने का आमंत्रण दिया.

रमन के गोठ 10 जनवरी 2016

आकाशवाणी से प्रसारित मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता 'रमन के गोठ' की पांचवीं कड़ी में कुपोषित बच्चों और कुपोषित गर्भवती माताओं और बहनों के स्वास्थ्य और प्रदेश के सूखा पीड़ित किसानों के प्रति उनकी गहरी चिन्ता और संवेदनाओं की झलक मिली. मुख्यमंत्री ने बच्चों और महिलाओं को कुपोषण से मुक्त करने और सूखा प्रभावित किसानों को राहत पहुंचाने के लिए राज्य सरकार द्वारा किए जा रहे उपायों पर भी प्रकाश डाला. उन्होंने किसानों का हौसला बढ़ाते हुए उनसे कहा कि जीवन में उतार-चढ़ाव, सुख-दुःख तो आते ही रहते हैं, लेकिन ऐसे क्षणों में हमें हिम्मत से काम लेना होगा. मैं और मेरी पूरी सरकार आपके साथ खड़ी है.

रमन के गोठ 13 दिसंबर 2015

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने प्रदेश की जनता के लिए आकाशवाणी से प्रसारित अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम 'रमन के गोठ' की चौथी कड़ी में जहां सूखा पीड़ित किसानों की मदद के लिए अपनी सरकार की वचनबद्धता प्रकट की, वहीं उन्होनें नक्सल हिंसा पीड़ित दंतेवाड़ा ज़िले के 128 गांवों मे एक हज़ार से भी ज़्यादा किसानों द्वारा की जा रही जैविक खेती के लिए इन किसानों की विशेष रूप से तारीफ़ की. उन्होंने किसानों के लिए मिट्टी की अच्छी सेहत की ज़रूरत पर बल दिया और उन्हें यह भी बताया कि मिट्टी के नमूनों की जांच के लिए राज्य में 8 नई प्रयोगशालाएं खोलने का निर्णय लिया गया है. उन्होंने प्रदेश की 7 विशेष पिछड़ी जनजातियों के लगभग 1 लाख 94 हज़ार सदस्यों की सामाजिक-आर्थिक बेहतरी के लिए 11 सूत्रीय समयबद्ध विशेष अभियान चलाने की भी घोषणा की.

रमन के गोठ 8 नवंबर 2015

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कार्यक्रम की तीसरी कड़ी में प्रदेश के नौनिहालों के भविष्य को लेकर अपने विचार व्यक्त किए और कहा कि मैं उनके भविष्य के प्रति पूरी तरह सतर्क हूं. उन्होंने स्कूली बच्चों को सुरक्षा के बिना पर्यटन पर ले जाने की प्रवृत्ति पर चिंता जताई और शिक्षकों को इस प्रकार की लापरवाही न बरतने के लिए सचेत किया. उन्होंने अभिभावकों और पंचायतों को भी समझाइश दी. उन्होंने अपने उद्बोधन में अकाल-ओला पीड़ित किसानों को राहत पहुंचाने सभी ज़रूरी कदम उठाने के विषय में विस्तार से जानकारी दी. उन्होंने 16 नवंबर से शुरू हुई धान खरीदी के सम्बन्ध में भी नागरिकों को जानकारी दी.

रमन के गोठ 11 अक्टूबर 2015

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने रमन के गोठ की दूसरी कड़ी में राज्य के विकास की प्रतिबद्धता को दोहराया. मुख्यमंत्री ने ‘पितरपाख’ के अवसर पर प्रदेश के महान पुरखों को याद किया और प्रदेशवासियों को शारदीय नवरात्रि, दशहरा और राज्य स्थापना दिवस की अग्रिम बधाई दी. मुख्यमंत्री ने दशहरा से जुडी अपने बचपन की यादों को ताजा करते हुए कहा कि वे पिता की उंगली पकड़कर दशहरा देखने जाते थे. उन्होंने अपनी वार्ता में बस्तर दशहरे की प्राचीनता और अनूठे स्वरुप पर प्रकाश डाला. मुख्यमंत्री ने श्रोताओं द्वारा पूछे गए सवालों का ज़वाब देते हुए कहा कि सरगुजा इलाके में सड़क और रेल सुविधाओं के विकास के लिए सक्रिय पहल की जा रही है. उन्होंने दूसरे सवाल के ज़वाब में कांकेर ज़िले में पुरातत्व संरक्षण के लिए सभी जरूरी कदम उठाने की बात कही.

रमन के गोठ 13 सितम्बर 2015

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अपने मासिक कार्यक्रम की पहली प्रस्तुति में जनता के हर सुख-दुख में साथ खड़े रहने के अपने संकल्प को दोहराया. उन्होंने अकाल की आशंका से चिन्तित किसानों को राहत का पूरा भरोसा दिया. मुख्यमंत्री ने अपने प्रथम उद्बोधन में जनता को छत्तीसगढ़ के तीज-त्यौहारों की बधाई दी.