News Details

बड़े पापा ने बच्चों को परीक्षा के दौरान तनावमुक्त रहने दिए टिप्स : मुख्यमंत्री ने प्रयास विद्यालय में बच्चों के साथ बिताए कुछ पल

12/02/2017

रायपुर 12 फरवरी 2017

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आज अपनी व्यस्त दिनचर्या में से कुछ पल निकालकर बोर्ड परीक्षाओं की तैयारी कर रहे प्रयास आवासीय विद्यालय के बच्चों के बीच पहुंचे। उन्होंने  राजधानी रायपुर के गुढ़ियारी स्थित इस विद्यालय में परिवार के मुखिया की तरह बच्चों को परीक्षा की तैयारी और परीक्षा के दौरान तनावमुक्त रहने के लिये मार्गदर्शन दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि वह बच्चों को परीक्षा के लिये शुभकामना देने आए हैं। आवासीय विद्यालय की बालिकाओं ने प्रफुल्लित होकर आत्मीयता से मुख्यमंत्री को बड़े पापा कहकर संबोधित किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि परीक्षा की तैयारी करने के साथ-साथ अपनी सेहत पर ध्यान देते हुए पर्याप्त नींद लेना चाहिये। अच्छी नींद से दिमाग तरोताजा रहता है और पढ़ी हुई बातें अच्छी तरह से याद रहती है। पढ़ने के साथ पढ़ी हुई बातों को दोबारा मनन करना जरूरी है। ‘आगे पाट पीछे सपाट’ नहीं होना चाहिये। इस मौके पर मुख्यमंत्री की धर्मपत्नी श्रीमती वीणा सिंह भी उपस्थित थी। 
    मुख्यमंत्री ने छात्राओं से कहा कि पढ़ाई के दौरान बीच-बीच में कुछ विश्राम लेना भी जरूरी है। एक घंटे की पढ़ाने के बाद पांच-दस मिनट का ब्रेक लेकर फिर से पढ़ाई में जुट जाना चाहिये। पढ़ाई के दौरान एकाग्रता और विषयों पर फोकस रहना जरूरी है। ऐसा न हो कि आप किताब लेकर बैठे हों आपका ध्यान दूसरे विषयों में लगा हो। मुख्यमंत्री ने कहा कि परीक्षाओं के दौरान माता-पिता एवं अभिभावकों की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है, वह जब पढ़ते थे तब उनकी माताजी उनके सभी भाई-बहनों की पढ़ाई के साथ ताजा भोजन और सोने और उठने के समय का पूरा ध्यान रखती थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि परीक्षा के दौरान दिमाग में डर नहीं लाना चाहिये। तनाव मुक्त होकर समय का सदुपयोग करना चाहिये। परीक्षा में अपेक्षा के अनुरूप पेपर न बने तो भी निराश नहीं होना चाहिये। असफलता से सीख लेकर निरंतर प्रयास कर आगे बढ़ना चाहिये।
डॉ. रमन सिंह ने कहा कि परीक्षा के दौरान तनावमुक्त रहने के लिये छात्र-छात्राएं योगाभ्यास को अपनी दिनचर्या में शामिल करें। इससे फिटनेस का स्तर सुधरता है और याददाश्त तेज होता है। योग से जीवन में शांति और संतुलन स्थापित होता है। उन्होने कहा कि अपनी पसंद की बातों को फॉमूर्ला से जोड़कर याद रखने से विषय कभी भूलता नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा कि अखिल भारतीय प्रतियोगी परीक्षाओं, इंजीनियरिंग और मेडिकल परीक्षाओं में ग्रामीण पृष्ठभूमि के बच्चे सफल होकर प्रशासनिक अधिकारी, डॉक्टर, इंजीनियर बन रहे हैं। लगन एवं कड़ी मेहनत से पढ़ाई करें तो आप भी सफल हो सकते हैं। बच्चों ने मुख्यमंत्री को बड़े पापा और उनकी धर्मपत्नी श्रीमती वीणा सिंह को बड़ी मम्मी कहकर संबोधित किया और अपनी जिज्ञासा को शांत करने के लिए कई सवाल पूछे। कक्षा 12वीं की छात्रा कुमारी द्रोणेश भारती ने उच्च शिक्षा संस्थानों के संबंध प्रश्न पूछा जिस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ में अब उच्च शिक्षण संस्थानों की कोई कमी नहीं है। यहां पर आईआईटी, आईआईएम, विधि विश्वविद्यालय और टिपल आईटी जैसे अनेक संस्थान हैं। यहां पर अघ्ययन की वह सारी सुविधाएं है जो पहले बड़े शहरों में होती थी। अब दूसरे प्रदेशों से छत्तीसगढ़ आकर विद्यार्थी  पढ़ाई कर रहें है। विद्यार्थियों ने संस्थान परिसर में इंटरनेट की सुविधा की चर्चा की जिस पर मुख्यमंत्री ने परिसर में वाई-फाई की सुविधा उपलब्ध कराने की निर्देश दिए। श्रीमती वीणा सिंह ने भी बच्चों को शुभकामनाएं दी।
 इस दौरान कॉमेडियन श्री राजू श्रीवास्तव भी प्रयास आवासीय विद्यालय पहुंचे। उन्होंने कहा कि यह बहुत अच्छा अवसर है जब मुझे इतने अच्छे शैक्षणिक संस्थान में आने का मौका मिला।  उन्होंने अपने हास-परिहास से बच्चों का मनोरंजन किया। 


क्रमांक-5577/देवांगन