News Details

​ ‘हमर छत्तीसगढ़’ भौगोलिक और भावनात्मक जुड़ाव की योजना: डॉ. रमन सिंह

01/07/2017

मुख्यमंत्री और केन्द्रीय मंत्री षामिल हुए योजना की प्रथम वर्षगांठ के समारोह में
केन्द्रीय योजनाओं के क्रियान्वयन में छत्तीसगढ़ देश का अग्रणी राज्य: श्री गेहलोत
 
रायपुर, 01 जुलाई 2017
 मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज रात नया रायपुर में ‘हमर छत्तीसगढ़ योजना’ की प्रथम वर्षगांठ के अवसर पर आयोजित समारोह का दीप प्रज्ज्वलित कर शुभारंभ किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री श्री थावरचंद गेहलोत ने की। प्रदेश के पंचायत और ग्रामीण विकास मंत्री श्री अजय चन्द्राकर, सहकारिता, पर्यटन और संस्कृति मंत्री श्री दयालदास बघेल, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती रमशीला साहू और अन्य अनेक वरिष्ठ जनप्रतिनिधि तथा विभिन्न जिलों से आए पंचायत प्रतिनिधि कार्यक्रम में उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने इस योजना को छत्तीसगढ़ के विभिन्न क्षेत्रों के लोगों के भौगोलिक और भावनात्मक जुड़ाव की योजना बताया। 
उल्लेखनीय है कि राज्य सरकार द्वारा पंचायत राज संस्थाओं और सहकारिता क्षेत्र के निर्वाचित जनप्रतिनिधियों को इस योजना के तहत रायपुर और नया रायपुर आमंत्रित कर विकास गतिविधियों का अवलोकन करवाया जा रहा है। अब तक पौने दो लाख से ज्यादा प्रतिनिधियों में से 75 हजार से ज्यादा प्रतिनिधि यहां आकर विधानसभा, कृषि विश्वविद्यालय, मंत्रालय, विज्ञान केन्द्र आदि संस्थाओं का अध्ययन-भ्रमण कर चुके हैं। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने योजना का पहला साल सफलतापूर्ण होने पर सभी सहयोगियों को बधाई दी। डॉ. सिंह ने कहा - यह योजना प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की प्रेरणा से शुरू की गई है। ग्रामीण जनप्रतिनिधियों को राज्य के विकास के लिए संचालित गतिविधियों और राजधानी में स्थापित अधोसंरचनाओं को दिखाकर विकास के प्रति उनमें एक नया दृष्टिकोण विकसित करना इस योजना का मुख्य उद्देश्य है। ज्ञातव्य है कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने एक जुलाई 2016 को इस योजना का शुभारंभ किया था। मुख्यमंत्री ने आज इस योजना के एक वर्ष पूर्ण होने पर नया रायपुर के उपरवारा स्थित होटल प्रबंधन संस्थान में आयोजित समारोह में अध्ययन भ्रमण पर आए सरगुजा, सूरजपुर, बलरामपुर-रामानुजगंज, जशपुर और रायगढ़ जिले के पंच-सरपंचों को संबोधित किया। डॉ. सिंह ने योजना से जुड़े सभी जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों तथा कर्मचारियों कोे बधाई दी। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि आगामी जून माह तक पंचायत एवं सहकारिता क्षेत्र के दो लाख जनप्रतिनिधियोें को राजधानी रायपुर का भ्रमण कराया जाएगा। उन्होने जनप्रतिनिधियों को कहा कि हमर छत्तीसगढ़ योजना जनप्रतिनिधियों को उनकी जानकारी का विस्तार करने का अवसर देती है। उन्होने कहा कि पंचायत प्रतिनिधि अच्छा काम करते रहेंगे तो वे निरंतर आगे बढ़ेगा। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं  अधिकारिता मंत्री श्री थावरचंद गहलोत ने कहा - छत्तीसगढ केंद्रीय योजनाओं के क्रियान्वयन में देश का अग्रणी राज्य है। उन्होने हमर छत्तीसगढ़ योजना की तारीफ करते हुए कहा कि इससे एक क्षेत्र के लोगों को दूसरे क्षेत्र के लोगों और उनकी संस्कृति को जानने-समझने का अवसर मिलता है। इससे लोगों के बीच भाईचारा और अपनापन बढ़ता है साथ ही विकास के प्रति नया नजरिया विकसित होता है। प्रदेश के पंचायत प्रतिनिधियों ने गांवों को खुले में शौचमुक्त करने के लिये अच्छा कार्य किया है। कई विकसित राज्यों में भी कई गांव खुले में शौचमुक्त नही हो पाए हैं। उन्होने कहा  कि गंावों में निर्माण कार्याें के साथ बच्चों की शिक्षा और सुपोषण की जिम्मेदारी भी सरपंचों की है। 
 
 राज्य शासन की ‘हमर छत्तीसगढ़ योजना‘ के तहत पहले साल प्रदेश के करीब 78 हजार निर्वाचित जनप्रतिनिधि रायपुर और नया रायपुर के अध्ययन भ्रमण पर आ चुके हैं। केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री श्री थावरचंद गहलोत, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री अजय चन्द्राकर, पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री श्री दयालदास बघेल, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती रमषीला साहू विषेष अतिथि के रूप में समारोह में उपस्थित थी। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर ‘हमर छत्तीसगढ़ योजना‘ पर केन्द्रित कॉफी टेबल बुक का विमोचन किया। उन्होंने परिसर में महिला समूह द्वारा संचालित ‘बिहान बाजार‘ का शुभारंभ किया।
पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री  अजय चन्द्राकर ने समारोह को सम्बोधित करते हुए कहा कि ‘हमर छत्तीसगढ़ योजना‘ एवं भावनात्मक योजना है। जो छत्तीसगढ़ वासियों को अपनी समृद्ध विरासत, परम्परा, विकास के साथ जोड़ती है। इस योजना में पहली बार राजधानी आए जनप्रतिनिधियों में से अनेक ने पहली बार हवाई जहाज और रेल देखी। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटलबिहारी वाजपेयी जी को याद करते हुए कहा कि उन्होंने बिना किसी आन्दोलन के प्रदेष वासियों को छत्तीसगढ़ के रूप में नये राज्य की सौगात दी। पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री श्री दयालदास बघेल ने भी अपने विचार व्यक्त किए। देश भर में चर्चित ‘हमर छत्तीसगढ़ योजना‘ को देखने-समझने कई राज्यों के मंत्री और वरिष्ठ अधिकारी आ चुके हैं। इनमें बिहार के तत्कालीन राज्यपाल श्री रामनाथ कोविंद और झारखंड विधानसभा के अध्यक्ष सहित राजस्थान, जम्मू-कश्मीर, उत्तरप्रदेश और हरियाणा के मंत्री शामिल हैं। विगत 01 नवम्बर को राज्योत्सव 2016 का शुभारंभ करने आए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने उस दौरान अध्ययन भ्रमण पर आए पंचायत प्रतिनिधियों से मुलाकात की थी। उन्होंने योजना को काफी सराहा भी था। भारत सरकार के पंचायतीराज एवं ग्रामीण विकास मंत्रालय सहित अनेक मंत्रालयों के अधिकारी भी योजना को जानने-समझने आवासीय परिसर पहुंचे हैं। 
गांवों और कस्बों के निर्वाचित जनप्रतिनिधियों के अध्ययन, शिक्षण-प्रशिक्षण और उनका अनुभव संसार समृद्ध करने के उद्देश्य से इस अनूठी योजना की शुरूआत पिछले वर्ष 01 जुलाई को की गई थी। योजना के अंतर्गत पंचायत प्रतिनिधियों को छत्तीसगढ़ में पिछले डेढ़ दशक में हुए विकास कार्यों, कृषि और विज्ञान के क्षेत्र में हो रही नित नई प्रगति एवं प्रदेश की संस्कृति व कला सहित शासकीय योजनाओं के बारे में जानकारी दी जाती है। विगत एक वर्ष में छत्तीसगढ़ के सभी 27 जिलों और 146 विकासखंडों के पंचायत प्रतिनिधि दो दिनों के अध्ययन भ्रमण पर राजधानी रायपुर आए। इनमें हजारों की संख्या में बस्तर और सरगुजा जैसे सुदूर वनांचलों के जनप्रतिनिधि शामिल थे, जिन्हें इस योजना की बदौलत पहली बार राजधानी देखने का मौका मिला। यह सिलसिला आगामी एक वर्ष यानि 30 जून 2018 तक और तक जारी रहेगा। सहकारी संस्थाओं के प्रतिनिधियों को भी 02 अक्टूबर 2016 से इस योजना से जोड़ा गया है।
अध्ययन भ्रमण पर आने वाले पंचायत प्रतिनिधि अपने गांव की मिट्टी, पानी और वहां पाए जाने वाले विशेष प्रजाति का पौधा लेकर आते हैं। इसे वे नया रायपुर में लगाते हैं। इस तरह राजधानी नया रायपुर से प्रदेश का हर गांव जुड़ रहा है। दो दिनों के अध्ययन प्रवास के दौरान पंच-सरपंचों को जंगल सफारी, मंत्रालय, विधानसभा, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, साइंस सेंटर, ऊर्जा पार्क, शहीद वीर नारायण सिंह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम, फाइव-डी इमर्सिव डोम, माना विमानतल एवं पुरखौती मुक्तांगन का भ्रमण कराया जाता है। पुरखौती मुक्तांगन में लाइट एंड साउंड शो के जरिए उन्हें छत्तीसगढ़ से जुड़े पौराणिक आख्यानों, इतिहास, पुरातत्व, संस्कृति, छत्तीसगढ़ के अलग राज्य बनने की कहानी के साथ ही प्रदेश की उपलब्धियों एवं योजनाओं की जानकारी दी जाती है।
भ्रमण के साथ ही पंचायत प्रतिनिधियों के लिए आवासीय परिसर में प्रशिक्षण एवं सामूहिक चर्चा का आयोजन किया जाता है। इसमें वे विकास कार्यों और योजनाओं के क्रियान्वयन संबंधी अपने अनुभव साझा करते हैं। स्वच्छता एवं विधिक संबंधी जागरूकता के लिए भी यहां नियमित कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। भ्रमण पर आने वाले पंचायत प्रतिनिधियों को योगाभ्यास भी कराया जाता है। योग प्रशिक्षक की देखरेख में वे विभिन्न आसनों का अभ्यास करते हैं। साथ ही उन्हें स्वस्थ और प्रसन्न रहने के गुर भी बताए जाते हैं। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने ‘हमर छत्तीसगढ़ योजना‘ में उल्लेखनीय कार्य करने वाले सर्वश्री सुभाष मिश्रा, दिनेष अग्रवाल, आनंद रघुवंषी, सुश्री अभिलाषा आनंद और सुश्री राधिका श्रीवास्तव को प्रतीक चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री एम. के. राऊत ने योजना के स्वरूप पर विस्तार से प्रकाष डाला। समारोह में पंचायत एवं ग्रामीण विभाग के सचिव श्री पी.सी. मिश्रा, पर्यटन विभाग के सचिव सुश्री निहारिका बारिक सिंह सहित वरिष्ठ अधिकारी समारोह में उपस्थित थे।
 
क्रमांक-1427/हीरा देवांगन